नासिरुद्दीन मुहम्मद हुमायूँ का जीवन परिचय एवम् महत्वपूर्ण प्रश्न

नासिरुद्दीन मुहम्मद हुमायूँ

प्रिय पाठको आज हम मध्यकालीन भारतीय इतिहास के मुगल काल के शासक नासिरुद्दीन मुहम्मद हुमायूँ के बारें में बात करने वाले है, एवम् इनसे सम्बन्धित सभी प्रश्नों का अध्ययन करेंगे 

जन्म– 6 मार्च 1508
स्थान – काबुल
मृत्यु – 17/27 जनवरी 1556( दिल्ली)

संतान – अकबर, मिर्ज़ा मुहम्मद हाकिम पुत्री- अकीकेह बेगम, बख़्शी बानु बेगम, बख्तुन्निसा बेगम

शासनकाल
26 दिसंबर 1530 – 17 मई 1540 ई.
22 फ़रवरी 1555 – 17/27 जनवरी 1556 ई.

हुमायूँ का राज्याभिषेक 30 दिसंबर 1530 को इनके पिता बाबर की मृत्यु के बाद आगरा में हुआ।

राज्याभिषेक के बाद हुमायूँ के भाई कामरान ने विद्रोह कर दिया और लाहौर और मुल्तान पर कब्जा कर लिया।

हुमायूँ के सैन्य अभियान

1531 में हुमायूँ ने कालिंजर के शासक रुद्र देव पर पहला अभियान चलाया।

1532 में हुमायूँ की सेना और महमूद लोदी के मध्य युद्ध हुआ जिसमें महमूद लोदी कि पराजय हुई।

1537 ई. में हुमायूँ ने पूर्व का द्वार कहे जाने वाले चुनार गढ़ पर अपना कब्जा कर लिया।

27 जून 1539 में शेर खाँ(शेरशाह सूरी) व हुमायूँ के बीच बक्सर के निकट चौसा नामक स्थान पर युद्ध हुआ जिसमें हुमायूँ की पराजय हुई।

इस युद्ध मे हुमायूँ एक भिश्ती (निज़ाम) की सहायता से अपनी जान बचाने में सफल रहा, इस खुशी में हुमायूँ ने भिश्ती को एक दिन के लिये बादशाह बनाया और भिश्ती ने चमड़े के सिक्के जारी किये।इसका उल्लेख गुलबदन बेगम की रचना हुमायूँनामा में मिलती है।
चौसा के युद्ध में सफल होने के बाद शेरखाँ ने खूद को सुल्तान घोषित किया और ‘शेरशाह‘ की उपाधि धारण की । साथ ही अपने नाम के खुत्बे पढ़वाए तथा सिक्के ढलवाने का आदेश दिया।

सन 1540 ई . में हुमायूँ ने अपने भाई हिंदाल और अस्करी की सहायता से बिलग्राम (कन्नौज) को जीतना चाहा, लेकिन हुमायूँ की असफलता ने यहाँ भी उसका साथ नहीं छोड़ा । हुमायूँ की इस युद्ध में असफलता के बाद शेरशाह ने सरलता से आगरा और दिल्ली पर अधिकार कर लिया । इस तरह हिंदुस्तान की राजसत्ता एक बार फिर से अफगानों के हाथों में चली गयी।

नासिरुद्दीन मुहम्मद हुमायूँ

हुमायूँ ने दुबारा 1545 ई . में ईरान के शासक की सहायता से कंधार एवं काबुल पर अधिकार किया और इसके बाद जब 1553 ई . में शेरशाह के उत्तराधिकारी इस्लामशाह की मृत्यु के बाद अफगान साम्राज्य विघटित होने लगा तब ऐसी स्थिति में हुमायूँ को पुनः अपने राज्य प्राप्ति का अवसर मिला

1554 ई . में हुमायूँ अपनी सेना के साथ पेशावर पहुँचा और 1555 ई . में उसने लाहौर पर कब्जा कर लिया।

1555 ई . में लुधियाना के निकट ‘मच्छीवाड़ा‘ नामक स्थान पर हुमायूँ एवं अफगान सरदार हैबत खाँ एवं तातार खाँ के बीच संघर्ष हुआ, इस अभियान में हुमायूँ की विजयी हुई।

1555 ई . मे अफगान सेना और मुगल सेना के बीच सरहिंद का युद्ध हुआ। जिसमें मुगल सेना का नेतृत्व बैरम खाँ ने किया। इस युद्ध मे मुगलों की विजय हुई
इस जीत के पश्चात् 1555 ई . में एक बार पुनः दिल्ली के तख्त पर हुमायूँ बैठा

17/27 जनवरी 1556 ई . में ‘दीनपनाह‘ के पुस्तकालय की सीढ़ियों से गिरने के कारण हुमायूँ की मृत्यु हो गई।

हुमायूँ की जीवनी का नाम हुमायूँनामा है जो उनकी बहन गुलबदन बेग़म ने लिखी है। इसमें हुमायूँ को काफी विनम्र स्वभाव का बताया गया है

हुमायूँ के लिए लेनपुल लिखता है कि ‘हुमायूँ जीवन भर लड़खड़ाता रहा और लड़खड़ाते ही मर गया

हुमायूँ ज्योतिष में विश्वास रखता था, जिस कारण वह सप्ताह के सातों दिन अलग अलग कपड़े पहनता था।

आगे पढ़ें – 

प्रागैतिहासिक काल के महत्वपूर्ण प्रश्न – इतिहास

ताम्र पाषाण काल से सम्बन्धित महत्वपूर्ण प्रश्न

सिन्धु घाटी सभ्यता से सम्बन्धित महत्वपूर्ण प्रश्न

वेदों के बारें में 

शेर शाह सूरी

tags-

बाबर के पिता का नाम, हुमायूं का बेटा कौन था, हुमायूँ का मकबरा हिस्ट्री, गुलबदन बेगम किसकी पत्नी थी, कामरान मिर्जा, हमीदा बानो बेगम, हुमायूँ तस्वीरें, अकबर ने गुजरात पर विजय कब प्राप्त की, शेर शाह सूरी, Babar father name, अकबर का बेटा कौन था, हुमायूं और शेरशाह सूरी की लड़ाई, हुमायूँ पति पत्नी, मच्छीवारा का युद्ध, मनसबदारी प्रथा का वर्णन कीजिए, हुमायूँ MCQ, मुगल काल में व्यापार वाणिज्य नीति क्या थी, सरहिंद का युद्ध किसके बीच हुआ, हुमायूँ मृत्यु के समय आयु, कालिंजर का युद्ध, सूरजगढ़ का युद्ध, हुमायूँ के वीडियो, मुगल मुद्रा प्रणाली का वर्णन कीजिए,

Lokesh Tanwar

अभी कुछ ख़ास है नहीं लिखने के लिए, पर एक दिन जरुर होगा....

4 thoughts on “नासिरुद्दीन मुहम्मद हुमायूँ का जीवन परिचय एवम् महत्वपूर्ण प्रश्न

Leave a Reply

Your email address will not be published.