टेलीफोन का अविष्कार कैसे हुआ

टेलीफोन का अविष्कार

 

सबसे पहले वैज्ञानिक एलेक्जेंडर ग्राहम बेल अपने सहायक टॉमस वाट्सन की सहायता से 10 मार्च 1876 में टेलिफोन का आविष्कार किया था. लेकिन कुछ इतिहासकारों का मानना ये भी है की टेलीफोन का अविष्कार Elisha Gray ने भी किया था। तो आइए आज हम जानते है कि टेलीफोन का अविष्कार कैसे हुआ।

एलेक्जेंडर ग्राहम बेल का जन्म 3 मार्च 1847 को स्कॉटलैंड में हुआ, ग्राहम बेल अपने टेलीफोन के आविष्कार के लिए विश्व में काफी प्रसिद्ध है। उनके इस आविष्कार ने पूरी दुनिया को बदल कर रख दिया था. और शायद जो आज हमारे हाथों में जो सबसे प्यारी चीज मोबाइल है वो उन्ही की देन है।

एलेक्जेंडर ग्राहम बेल की मां और पत्नी दोनों बहरी थी जिस वजह से उन्हें ध्वनि विज्ञान यानी कि ( Science of Sound) में काफी रुचि थी। और ये इसी पर शोध करते रहते थे

 

ग्राहम बेल को जानते थे कि टेलीग्राफ तार के जरिए ध्वनी के सिग्नल को एक जगह से दूसरी जगह भेजा जा सकता है इसलिए उन्होंने इस पर शोध कार्य शुरू कर दिया। शोध कार्य के लिए उन्होंने अपने साथ एक सहायक थॉमस वाटसन को रखा जिसने टेलीफोन की खोज के लिए ग्राहम बेल की काफी मदद की. दोनो इसी पर घंटो काम करते रहते थे।

बात 10 मार्च 1876 की है जब ग्राहम बेल अपने कमरे में और उनका सहायक वाटसन दूसरी मंजिल पर अपना काम कर रहे थे. बहुत दिनों से लगातार अलग-अलग यंत्रों को जोड़ने पर भी उन्हें तारों के जरिए ध्वनि संचरण में सफलता नहीं मिल रही थी लेकिन उस दिन पता नहीं तारों का कैसा संयोजन बना की काम करते-करते ग्राहम बेल की पेंट पर हल्का सा ज्वलनशील प्रदार्थ (acid) गिर गया और उन्होंने दर्द से कराहते हुए वाटसन को मदद के लिए पुकारा और वाटसन ने उनकी आवाज को अपने पास रखें यंत्र से आते हुए सुना और इसके बाद यह कहानी इतिहास बन गई।

यह दो व्यक्तियों के बीच पहली बार टेलीफोन पर की गई बात थी. इस बातचीत में ग्राहम बेल अपने सहायक वाटसन को कहते हैं कि ‘Mr. Watson Come here … I Want To See You’ यानी कि मिस्टर वाटसन यहां आओ मुझे तुम्हारी जरूरत है।
टेलीफोन की खोज के तुरंत बाद एलेग्जेंडर ग्राहम बेल ने इसका 7 मार्च 1876 को इसे पेटेंट करवा लिया और 1877 में एक टेलीफोन कंपनी खोली जो जल्द ही बहुत प्रसिद्ध हो गई. आज के समय में ग्राहम बेल की कंपनी को AT&T के नाम से जाना जाता है. ग्राहम बेल की इस प्रतिभा का अंदाजा इस बात से लगा सकते है कि वह महज 13 वर्ष की उम्र में एलेक्जेंडर ग्राहम बेल ग्रेजुएट हो गए थे। आपको जानकर हैरानी होगी कि सिर्फ 16 साल की उम्र में यह वैज्ञानिक एक म्यूजिक टीचर के रूप में मशहूर हो गया था और लगभग 23 साल की उम्र में उन्होंने एक ऐसा प्यानो बनाया था जिसकी मीठी आवाज काफी दूर तक सुनी जा सकती थी।

एक महाद्वीप के सिरे से दूसरे महाद्वीप के सिरे तक पहला टेलीफोन कॉल 15 जनवरी 1915 को हुआ था जिसमें एलेक्जेंडर ग्राहम बेल ने थॉमस वाटसन से बात की थी। एलेक्जेंडर ग्राहम बेल उस समय अमेरिका के पूर्वी तट पर बसे न्यूयॉर्क सिटी में थे और थॉमस वाटसन पश्चिमी तट पर बसे सैन फ्रांसिस्को शहर में थे. टेलीफोन की खोज के बाद बेल अपने कमरे में टेलीफोन हो रखना पसंद नहीं करते थे क्योंकि उनके अनुसार यह उनके काम में बार-बार बाधा डालता था।
एलेक्जेंडर ग्राहम बेल की मृत्यु एक अनजान बीमारी की वजह से हुई थी. उनकी मृत्यु के बाद पूरे उत्तरी अमेरिका की सभी टेलिफोन लाइनो को एलेग्जेंडर ग्राहम बेल के सम्मान के रूप में 2 मिनट के लिए बंद कर दिया गया था। उनकी मृत्यु 2 अगस्त 1922 को कनाडा में 75 वर्ष की आयु में हुई थी।

कुतुबुद्दीन ऐबक का इतिहास

प्रागैतिहासिक काल

ए.पी.जे. अब्दुल कलाम की जीवनी

अकबर के बारें में ख़ास बातें

अंतर्राष्ट्रीय नृत्य दिवस

tags-
मोबाइल फोन का आविष्कार किसने और कब किया, ऐलेक्ज़ैन्डर ग्राहम बेल, टेलीफोन का महत्व, ग्राहम बेल की जीवनी, टेलीफोन पर निबंध, दूरभाष क्या है, टेलीफोन का अविष्कार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: