संघ और उसके क्षेत्र || भारत का संविधान भाग-1 || भारत का संविधान

संघ और उसके क्षेत्र

नमस्कार दोस्तों, आज हम भारत के संविधान भाग-1 ‘ संघ और उसके क्षेत्र ‘  जुड़े महत्वपूर्ण प्रश्न जो की UPSC, State Services Exams, SSC,SSC-GD, Railway Exams की नवीनतम परीक्षा पद्धति पर आधारित हैं तथा इन प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे उम्मीदवारों के लिए काफी लाभकारी होगा। इन प्रश्नों को पढ़ने के बाद आपको कही और जाने की जरूरत नही है।

1. भारत “राज्यों का संघ होगा”- किस अनुच्छेद में वर्णित है?
अ. अनुच्छेद 1
ब. अनुच्छेद 2
स. अनुच्छेद 3
द. अनुच्छेद 4
उत्तर – अ

अनुच्छेद 1 में भारतीय क्षेत्र को तीन श्रेणियों में बांटा गया है-
a. राज्यों के क्षेत्र
b. संघ क्षेत्र
c. वे क्षेत्र जिन्हें भारत सरकार अधिगृहित कर सकती हैं।

2. डॉ. बी आर अम्बेडकर के अनुसार भारत ‘राज्यों का संघ’ उक्ति से अभिप्राय है –
अ. भारतीय संघ राज्यों के बीच समझौते का परिणाम नहीं है
ब. राज्यों को संघ से विभक्त होने का अधिकार नहीं है
स. उपर्युक्त दोनों
द. इनमें से कोई नहीं

उत्तर – स

3. अनुच्छेद 2 संसद को शक्ति प्रदान करता है –
अ. नए राज्यों को भारत संघ में शामिल करने की शक्ति
स. नए राज्यों के गठन की शक्ति
ब. उपर्युक्त दोनों
द. इनमें से कोई नहीं

उत्तर – स
अनुच्छेद 2 संसद को उन राज्यों के प्रवेश व गठन से संबंधित शक्ति प्रदान करता है, जो भारतीय संघ के हिस्से नहीं है।

4. अनुच्छेद 3 में सम्मिलित नहीं है –
अ. दो या दो से अधिक राज्यों को मिलाकर नए राज्यों का निर्माण करना, राज्यों का पुनर्गठन
ब. किसी राज्य के क्षेत्र को घटाना या बढ़ाना
स. राज्य के नाम या सीमा में परिवर्तन
द. किसी क्षेत्र को विदेशी सत्ता को सौंपना

उत्तर – द
बरूबारी वाद (1960) के समय सर्वोच्च न्यायालय ने कहा कि संसद की शक्ति राज्यों की सीमा समाप्त करने या भारतीय क्षेत्र को अन्य देश को सौंपने की नहीं है।

5. किसी राज्य के नाम में परिवर्तन का अधिकार किसके पास है –
अ. संसद के पास
ब. राष्ट्रपति के पास
स. संबंधित राज्य के विधानमंडल के पास
द. संबंधित राज्य के राज्यपाल के पास

उत्तर – अ

6. स्वतंत्रता के समय देशी रियासतों की संख्या थी –
अ. 549
ब. 552
स. 555
द. 562

उत्तर – ब
552 देशी रियासतों में से 549 रियासतें भारत में शामिल हो गई जबकि तीन देशी रियासतों (हैदराबाद, जूनागढ़, जम्मू – कश्मीर) ने भारत में शामिल होने से इंकार कर दिया।

7. फ़ज़ल अली आयोग में अन्य दो सदस्य थे –
अ. के. एम. मुंशी और टी टी कृष्णामचारी
ब. जवाहरलाल नेहरू और सरदार वल्लभ पटेल
स. एस. के. धर और पट्टाभि सीतारमैया
द. के. एम. पणिक्कर और एच. एन. कुंजरू

उत्तर – द
भाषाई आधार पर राज्य के निर्माण हेतु दिसंबर, 1953 में भारत सरकार ने एक तीन सदस्यीय आयोग का गठन किया, जिसकी अध्यक्षता फजल अली ने की। 1955 में इसने अपनी रिपोर्ट प्रस्तुत की जिसमें राज्यों के पुनर्गठन में भाषा को मुख्य आधार बनाया किन्तु ‘एक राज्य एक भाषा’ के सिद्धांत को अस्वीकार कर दिया।

8. भाषाई आधार पर गठित भारत का प्रथम राज्य है –
अ. उत्तरप्रदेश
ब. मध्यप्रदेश
स. आंध्रप्रदेश
द. राजस्थान

उत्तर – स
मद्रास से तेलुगु भाषी क्षेत्र को पृथक कर 1 नवंबर, 1956 को आंध्रप्रदेश का गठन किया गया। इसके लिए एक लंबा आंदोलन चला, जिस दौरान कांग्रेसी कार्यकर्ता पोती श्रीरामुलु का निधन हो गया।

9. राज्य पुनर्गठन अधिनियम पारित किया गया –
अ. 1953
ब. 1956
स. 1960
द. 1962

उत्तर – ब
वर्ष 1956 में राज्य पुनर्गठन अधिनियम और 7वें संविधान संशोधन अधिनियम, 1956 द्वारा राज्य से संबंधित भाग क और भाग ख के बीच की दूरी समाप्त के दी और भाग ग को खत्म कर दिया गया।

10. 1 नवंबर 1956 को कितने राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों का गठन किया गया?
अ. 14 राज्य और 6 केंद्र शासित प्रदेश
ब. 16 राज्य और 8 केंद्र शासित प्रदेश
स. 29 राज्य और 7 केंद्र शासित प्रदेश
द. 28 राज्य और 9 केंद्र शासित प्रदेश

उत्तर – अ
1 नवंबर 1956 को 14 राज्य और 6 केंद्र शासित प्रदेशों का गठन किया गया।

भारतीय संविधान का निर्माण

भारतीय संविधान की विशेषताएं

भारतीय संविधान की प्रस्तावना

tags- संघ राज्य क्षेत्र in English, राज्यों का संघ कहा से लिया गया है, संविधान के प्रारंभ पर नागरिकता, संघ राज्य क्षेत्र का प्रशासन, 6वीं अनुसूची, पहली अनुसूची, राज्यों का संघ की संकल्पना, नागरिकता, भाग और अनुसूची में अंतर, संविधान के भाग याद करने की ट्रिक, Anuched 1 4, संघ का संविधान, राज्यों का पुनर्गठन,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: