राष्ट्रीय डिजिटल स्वास्थ्य मिशन क्या हैं || UPSC

राष्ट्रीय डिजिटल स्वास्थ्य मिशन क्या हैं?

राष्ट्रीय डिजिटल स्वास्थ्य मिशन 

  1. मूल रूप से राष्ट्रीय  डिजिटल  स्वास्थ्य  मिशन  का  मकसद एक स्वास्थ्य सूचना संगठन और देश में स्वास्थ्य सेवाओं के लिए एक डिजिटल पारिस्थितिकी तंत्र बनाना है।

 

  1. ताकिभारतके नागरिकों, स्वास्थ्य पेशेवरों, सार्वजानिक अस्पतालों के साथ  साथ निजी क्षेत्र के संस्थानों को ये सुविधाएं आसानी से मुहैया कराए जा सकें।

 

  1. इसकामकसदस्वास्थ्य संबंधी सूचनाओं का ऐसा डेटाबेस तैयार करना है, जिसकी मदद से आसानी से लोग अपनी स्वास्थ्य संबंधी सूचनाओं तक पहुंच सकें।

 

  1. हरनागरिकके स्वास्थ्य, डॉक्टर की सलाह का लेखा जोखा  एक एप या वेबसाइट के जरिए  संचालित  होगा  लेकिन  ये रेकॉर्ड्स व्यक्ति तक ही सीमित रहेंगे।

 

  1. राष्ट्रीयडिजिटलस्वास्थ्य मिशन चार अहम स्तंभों पर टिकाए है। स्वास्थ्य पहचान – पत्र या हेल्थ आईडी, डिजिटल डॉक्टर, स्वास्थ्य सुविधा पहचान कर्ता और निजी स्वास्थ्य रिकॉर्ड।

  1. इसयोजना की सबसे खास बात नागरिक को एक यूनिक हेल्थ आईडी देना है। इस  हेल्थ  आईडी में यह भी विकल्प होगा कि इसे अपने आधार कार्ड से जोड़ा जा सकें। 

 

  1. इसआईडीके जरिए राज्यों, अस्पतालों, पैथालॉजिकल  लैब  और फार्मा कंपनियों में व्यक्ति अपनी सेहत से जुड़ी जानकारियां लेने में सक्षम होगा। 

 

  1. इसआईडीमें मौजूद नागरिक की जानकारी खुद बे खुद सरकारी कम्युनिटी क्लाउड में स्टोर हो जाएगी। ऐसा इसलिए किया जाएगा ताकि डाटा सुरक्षित किया जा सके।

 

  1. इसमेंएकसुविधा यह भी दी गई है कि वे व्यक्ति प्रत्यक्ष लाभ हस्तांतरण के लिए अपनी हेल्थ आईडी को आधार कार्ड से जोड़ सकें।

 

  1. राष्ट्रीयडिजिटलस्वास्थ्य मिशन की चौथी सबसे अहम बात है निजी स्वास्थ्यअभिलेख। इन  निजी  अभिलेखों में नागरिकों की सारी स्वास्थ्य सम्बन्धी जानकारियां मौजूद रहेगी।

 

     11.इसमें जन्म से लेकर प्रतिरक्षा, सर्जरी, प्रयोगशाला टेस्ट तक सारी जानकारी होगी। इसे  हर  नागरिक के स्वास्थ्य पहचान पत्र से जोड़ा जाएगा।

हमसे Whatsapp पर जुड़ने के लिए यहाँ Click करें. Click here

  1. इसरिकॉर्डका स्वामित्व या रिकॉर्ड का मालिकाना हक उसी शख्स के पास होगा जिनके ये रिकॉर्ड हैं।

 

  1. इसएपका सबसे बड़ा फायदा है कि अगर शख्स या मरीज की सहमति नहीं होगी तो सरकार भी उसका डाटा नहीं देख पाएगी।

 

  1. किसीभीव्यक्ति से जुड़ा आंकड़ा देखने के लिए डॉक्टर या किसी भी संस्था को व्यक्ति की अनुमति लेनी होगी, साथ ही उसे वो समय भी बताना होगा, जितने समय के लिए ये आंकड़ा प्रयोग में लाया जा रहा हैं।

 

  1. एनएचप्राधिकरण जो कि आयुष्मान भारत और प्रधानमंत्री जनआरोग्य योजना के लिए भी कार्यान्वयन संस्था के तौर पर काम करती है। वह इस योजना के लिए भी कार्यान्वयन संस्था होगी।

 

  1. संस्थामेंदो भाग होंगे एक नीतियों और उनके विनियमन के लिए काम करेगा जबकि दूसरा इसे लागू करने के के लिए।

हमसे Whatsapp पर जुड़ने के लिए यहाँ Click करें. Click here

  1. इसकेलिएअमेरिका की नेशनल हैल्थ सर्विस व दक्षिण कोरिया के डिजिटल हैल्थ रिकॉर्डों का गहनता से अध्ययन किया गया।

 

भारतीय संविधान की अनुसूचियां 

भारतीय संविधान का विकास

भारत  के  प्रधानमन्त्री से सम्बन्धित  महत्वपूर्ण  प्रश्न 

भारत का उपराष्ट्रपति

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: