ज्वालामुखी क्या है || ज्वालामुखी की जानकारी

ज्वालामुखी की जानकारी Volcano Information

ज्वालामुखी की जानकारी में हम देखेंगे कि भूपटल पर वह प्राकृतिक छेद या दरार है, जिससे होकर पृथ्वी का पिछला पदार्थ लावा, राख, भाप तथा अन्य गैसे बाहर निकलती है. बाहर हवा में उड़ा हुआ लावा शीघ्र ही ठंडा होकर छोटे ठोस टुकड़ों में बदल जाता है. जिसे सिंडर कहते है. उदगार में निकलने वाली गैसों में वाष्प का प्रतिशत सर्वाधिक होता है. उदगार अवधि अनुसार ज्वालामुखी तीन प्रकार की होती है. सक्रिय ज्वालामुखी, प्रसुप्त ज्वालामुखी, मृत या शांत ज्वालामुखी. ज्वालामुखी क्या है

सक्रिय ज्वालामुखी Active volcano

इसमें अक्सर उद्गार होता है. वर्तमान समय में विश्व में सक्रिय ज्वालामुखीयों की संख्या 500 है. इनमे प्रमुख है, इटली का एटना और स्ट्राम्बोली.

स्ट्राम्बोली भूमध्य सागर में सिसली के उत्तर में लिपारी द्वीप पर अवस्थित है. इसमें सदा प्रज्वलित गैस निकला करती है, जिसमे आस पास का भाग प्रकाशित रहता है. इस कारण इस ज्वालामुखी को भूमध्य सागर का प्रकाश स्तम्भ कहते है.

 

प्रसुप्त ज्वालामुखी Dormant Volcano

जिसमे निकट अतीत में उदगार नहीं हुआ है. लेकिन इसमें कभी भी उदगार हो सकता है. इसके उदहारण है – विसुवियस भूमध्य सागर, क्राकाटोवा सुंडा जलडमरुमध्य, फ्यूजीयामा जापान, मेयन फिलिपीन्स.

 

शांत ज्वालामुखी Extinct Volcano

वैसा ज्वालामुखी जिसमे एतिहासिक काल से कोई उदगार नहीं हुआ है और जिसमे पुन: उदगार होने की सम्भावना नहीं हो. इसके उदाहरण है – कोह सुल्तान और देमवन्द ईरान, पोपा म्यांमार, किलिमंजारो अफ्रीका, चिम्बराजो दक्षिण अफ्रीका.

कुल सक्रिय ज्वालामुखी का अधिकांश प्रशांत महासागर के तटीय भाग में पाया जाता है. प्रशांत महासागर के परिमेखला को अग्निवलय भी कहते है.

सबसे अधिक सक्रिय ज्वालामुखी अमेरिका और एशिया महाद्वीप के तटो पर स्थित है.

आस्ट्रिया महाद्वीप में एक भी ज्वालामुखी नहीं है.

गेसर Geyser

बहुत से ज्वालामुखी क्षेत्रो में उदगार के समय दरारों तथा सूराखो से होकर जल तथा वाष्प कुछ अधिक ऊँचाई तक निकलने लगते है. इसे ही गेसर कहा जाता है. जैसे ओल्ड फेथफुल गेसर, यह U.S.A के यलोस्टोन पार्क में है. इसमें प्रत्येक मिनट उद्गार होता रहता है.

विश्व का सबसे ऊँचा ज्वालामुखी पर्वत कोटापैक्सी इक्वेडोर है. जिसकी ऊँचाई 19613 फीट है.

विश्व की सबसे ऊचाई पर स्थित सक्रिय ज्वालामुखी ओजस डेल सालाड़ो 6885 मी एंडीज पर्वतमाला में अर्जेंटीना चिली देश के सीमा पर स्थित है.

विश्व की सबसे ऊँचाई पर स्थित शांत ज्वालामुखी एकांकागुआ Aconcagua एंडीज पर्वतमाला पर ही स्थित है, जिसकी ऊँचाई 6960 मी है.

ए.पी.जे. अब्दुल कलाम की जीवनी

अकबर के बारें में ख़ास बातें

अंतर्राष्ट्रीय नृत्य दिवस

भारत में हुए प्रमुख आविष्कार

वैदिक सभ्यता से सम्बन्धित महत्वपूर्ण प्रश्न

टेलीफोन का अविष्कार कैसे हुआ

tags – ज्वालामुखी क्या है, ज्वालामुखी की परिभाषा, ज्वालामुखी कैसे फटता है, ज्वालामुखी का जन्म कैसे होता है, सुषुप्त ज्वालामुखी, ज्वालामुखी के प्रकार, विश्व का सबसे बड़ा ज्वालामुखी, भारत के ज्वालामुखी,

Lokesh Tanwar

अभी कुछ ख़ास है नहीं लिखने के लिए, पर एक दिन जरुर होगा....

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: